पत्तों व फलों के रोग व रोकथाम

0
2311

IMG_20140902_101459
अत्याधिक पतझड़ होने के कारण फलों का आकार छोटा रह जाता है व उन पर पूरा रंग नहीं आता। फलों पर भूरे रंग के गोलाकार 4-6 धब्बे बनते हैं। बाद में ये धब्बे दबे हुए व गहरे भूरे रंग के हो जाते हैं व धब्बो में काले रग के छोटे-छोटे एसकुलस बनते हैं।
इससे निपटने के लिए गिरी हुई पतियों को इक_ा करके जला दें। पौधों की उचित काट-छांट करें जिससे सूर्य की रोशनी अधिक से अधिक शाखाओं पर पड़े व हवा का उचित आवागमन हो। बागीचे की साफ-सफाई रखें ताकि ज्यादा नमी न पनप सके। बचाव के लिए पेड़ों की अखरोट फल अवस्था से फल तुड़ान तक 15-20 दिनों के अंतराल पर मैंकोजैब 600 ग्राम, प्रोपीनैब 600 ग्राम, जिनैब 600 ग्राम, कार्बेन्डेजियम 100 ग्राम, डोडीन 150 ग्राम, कोंबीप्रोडक्ट 500 ग्राम या मैकोजेब 500 ग्राम कार्बेन्डेजियम, 100 ग्राम प्रति 200 लीटर पानी में घोल कर छिडक़ें।

LEAVE A REPLY