एक तो पहले ही उत्पादन कम, उस पर 60 फीसदी सेब ओलों से जमी आढ़तियों को भी महंगा खरीदना होगा अच्छी गुणवत्ता का सेब

0
1286

13164222_559556790873031_3643285801033528171_n

मुबई, मद्रास व कोलकता की मंडियों में बहेतर क्वालिटी के सेब की अधिक मांग
शिमलाहिमाचल में बागवानों पर मौसम की इस बार दोहरी मार झेलनी पड़ रही है। सर्दियों में चिंलिंग आवर्स पूरे न होने और लावरिंग के वक्त हुई बारिश व तूफान से पहले ही सेब उत्पादन को बड़ा झटका लगा है। उस पर सेटिंग के वक्त हुई ओलावृष्टि से 60 फीसदी के करीब फसल प्रभावित हुई है। जिससे अच्छी गुणवत्ता वाले सेब की तुलना में मंडियों में 50 फीसदी कम दाम मिलने से नुकसान उठाना पड़ेगा वहीं मंडियों में अच्छी गुणवत्ता की केवल 40 फीसदी फसल आने से आढ़तियों को ाी सेब महंगे रेट पर खरीदना होगा। मु बई, चिन्नई, कोलकता व अहमदाबाद की मंडियों में अच्छी गुणवत्ता के सेब की अधिक मांग रहती है।

IMG_20160704_123544
इसलिए यहां आढ़तियों को अच्छी गुणवता का सेब पिछले साले के मुकाबले में काफी महंगा खरीदना पड़ेगा। इससे प्रदेश सहित देश के बाजारों में उपभोक्ताओं को सेब का स्वाद लेने के लिए अपनी जेब ढीली करनी होगी। ऐसे में मौसम की मार का असर बागवानों से उपभोक्ताओं तक पडऩे वाला है।
बाक्स:
shimla-tehsil-map

सेब जिला शिमला सहित अन्य जिलों में भी मार:
देश में सेब जिला के नाम से प्रसिद्ध जिला शिमला सहित मंडी व कुल्लू के कई क्षेत्रों में भी ओलावृष्टि से सेब ज मी हुआ है। जिसका असर मंडियों में सीधा सेब की कीमत पर पडऩे वाला है। शिमला जिला में कोटखाई क्षेत्र के तहत बखौल, महासू, हालाईला, घरौग, चैथला, हिमरी, क्यारी, खनेटी, टाहू व घुंडा में ओलावृष्टि से सेब को भारी नुकसान हुआ है। इसी तरह से ठियोग के तहत घुंड, ठियोग, मत्याणा, शिलारू व नारकंडा, जुब्बल के तहत बरथाटा, पटालगलू, नंदपुर व छाजपुर, रोहडू क्षेत्र के तहत नावर वैली, टिक्कर व चिढग़ांव, चौपाल क्षेत्र के तहत मडावग, थरोज, मकडोग, झीना व पुजारली में ओलावृष्टि से सेब ज मी हुआ है। इसी तरह प्रदेश में दूसरे नंबर पर सेब उत्पादन करने वाले जिला कुल्लू में भी कई क्षेत्रों में ओलावृष्टि से सेब को नुकसान हुआ है। मंडी जिला के कई क्षेत्रों में भी ओलावृष्टि से बागवानों को नुकसान उठाना पड़ा है।
बयान
प्रदेश में ओलावृष्टि से 60 फीसदी सेब की फसल ज मी है। मंडियों में बागवानों का सेब अच्छी गुणवत्ता की तुलना में काफी सस्ता बिकेगा। ओलावृष्टि से सेब को जो नुकसान हुआ है प्रदेश सरकार ने इसकी अ ाी तक भरपाई भी नहीं की है।
हरीश चौहान, प्रदेशाध्यक्ष फल, सब्जी एवं फूल उत्पादक संघ।

LEAVE A REPLY